Home Breaking News बाघ के हमले में फिर से एक गंभीर, इस परिसर की तिसरी...

बाघ के हमले में फिर से एक गंभीर, इस परिसर की तिसरी घटना

27
0

Pratikar News

तलोदी बालापुर वन परीक्षेत्र अंतर्गत गिरगांव बिट के कक्ष क्रमांक 535 संरक्षित वन में आज सुबह सिंधी काटने गए आदमी पर हमला कर गंभीर जख्मी कर दिया। घटना सुबह 7:30 की है जख्मी का नाम सुरेश पुंडलिक गुरनूले, (50) गिरगांव का रहिवासी है। गिरगांव बिट के वनरक्षक एस.एन. प्रधान, इन्होंने जख्मी को तात्काल सिंदेवाही ग्रामीण अस्पताल पहुंचाया जख्मी की गंभीर हालत को देखते हुए शिंदे भाई ग्रामीण अस्पताल से उन्हें चंद्रपुर रेफर किया गया है।
आज सुबह फिर तिसरी बार उसी बाघ ने किया आदमी पर हमला कर जख्मी कर दिया। कल कल दोपहर इसी बात ने गोविंदपुर वन क्षेत्र के कक्षा 5वी कक्षा क्रमांक 70 में महुआ फूल चुने गए विरुद्ध विक्राबाई पांडुरंग खोबरागडे 72 को मार डाला था।

इसके पहले इसी बाघ द्वारा येनुली (माल) के जंगल में कोजबी निवासी वृद्धा को भी गया था। इस तरह यह इस बाघ द्वारा इंसान पर हमले की तीसरी घटना है जो यह लोगों के लिए गंभीर चेतावनी और वन विभाग के लिए सिरदर्द बनती जा रही है । इसलिए लोगों द्वारा इस बाघ का बंदोबस्त करने की मांग उठ रही है। और वन विभाग को भी इस बाघ को जल्द से जल्द पकड़ना जरूरी हो गया है । यह युवा नर बाघ इंसानी मौत को के लिए इस परिसर में जिम्मेदार हो रहा है । और इसकी आक्रामकता परिसर में दहशत फैला रही है।

 

Advotising

माहामानव, क्रांती कारी प्रज्ञासुर्य बोधिसत्व, भारतीय संविधान के शिल्पकार , ईस भारत देश का पहला राजा (प्रिन्स) डॉ बाबासाहेब (भीमराव) आंबेडकर ईनकी 130 वि जयंती के अवसर पर कोटि कोटि प्रणाम ,आप सभीको मंगल कामना और हार्दिक शुभेच्छा सम्राट प्रतिष्ठान और कांबळे परिवार जयभीम नमो बुद्धाय🙏💐🙏
बोधीमिलन वधु वर सूचक केंद्र पनवेल

मो. 8369685349

 

 

 

 

बार-बार वन विभाग द्वारा लोगों को समझाया जा रहा है महुआ फूल चुनने और जंगल में जलाऊ लकड़ियां काटने इकट्ठा करने और सिंधी काटने से मनाई की जा रही है। और सावधानी बरतने की लोगों को चेतावनी दी जा रही है। वन विभाग हर्बल नजर आ रहा है लोगों का तेंदूपत्ता महुआ फूल इकट्ठा करने का नहीं छूट पा रहा है। और आए दिन इस तरह की वारदातें घट रही है फिर भी लोग वन विभाग के बातों पर गंभीरता से ध्यान नहीं दे रहे हैं । और लोग अपनी जान खतरे में डालकर जंगल में दूर तक घुस आते हैं।और अपनी जान गंवा बैठते हैं। इस तरह की घटनाओं में इस वर्ष अब तक बाघ के तेंदुए के हमले में 12 मौतें हो चुके हैं और इस महीने भर में 5 लोग अपनी जान गवा चुके हैं।
जो भी हो अभी जल्द ही तेंदू पत्तों का संकलन का सीजन आने वाला है, जिसके चलते और बड़ी वारदातें घटने की संभावना को नकारा नहीं जा सकता। इसलिए अब इस बाघ का बंदोबस्त करना जरूरी हो गया है।

बातम्या आणि जाहिरातकरीता संपर्क साधावा - 7038636121

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here