Home राष्ट्रीय पवार,मोदी की भेट…महाराष्ट्र में हो सकते उलट फेर..?एक घण्टा तक दोनों में...

पवार,मोदी की भेट…महाराष्ट्र में हो सकते उलट फेर..?एक घण्टा तक दोनों में चली बैठक

22
0

Pratikar News

पवार,मोदी की भेट…महाराष्ट्र में हो सकते उलट फेर..?एक घण्टा तक दोनों में चली बैठक 

दिल्ली :- 18 जुलाई21

राष्ट्रीय कांग्रेस पार्टी NCP के प्रमुख शरद पवार ने शनिवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से दिल्ली में मुलाकात की है।दोनों की ये मुलाकात करीब एक घंटे तक चली है। इसके बाद सियासी गलियारों में अटकलों का दौर शुरू हो गया है। मानसून सत्र से पहले इस मुलाकात के कई मायने निकाले जा रहे हैं।

गौरतलब है कि दो दिन पहले केंद्रीय मंत्री पीयूष गोयल ने शरद पवार से उनके घर पर मुलाकात की थी। इसके बाद 16 जुलाई को शरद पवार केंद्रीय रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह से मिले थे।
अब पीएम मोदी व शरद पवार की मुलाक़ात के बाद कहा जा रहा है कि बीजेपी व एनसीपी के बीच कोई बड़ी सियासी खिचड़ी पक रही है तथा दोनों पक्ष महाराष्ट्र में गठबंधन करने व सरकार बनाने की संभावनाओं पर विचार कर रहे हैं।

इसके बाद महाराष्ट्र के सियासी गलियारों में हड़कंप मच गया है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी कार्यालय ने ट्वीट कर इस मुलाकात की पुष्टि की है. पीएमओ ने फोटो के साथ ट्वीट किया , ‘ राज्यसभा सांसद शरद पवार नरेंद्र मोदी से मिले. ‘
बता दें कि यह मुलाकात ऐसे वक्त में हुई है , जब कुछ दिन पहले ही ऐसी अटकलें सामने आईं कि शरद पवार राष्ट्रपति पद के उम्मीदवार हो सकते हैं. हालांकि , एऩसीपी चीफ ने इन अटकलों को खारिज किया था. इस मुलाकात से महाराष्ट्र में नया सियासी समीकरण को लेकर भी अटकलों का बाजार गर्म हो गया है. जिस तरह महाराष्ट्र की महाविकास अघाड़ी सरकार में खटपट चल रही है , उसे देखते हुए शरद पवार की बीजेपी के शीर्ष नेताओं से हो रही लगातार मुलाकातें किसी बड़े सियासी उलटफेर का संकेत दे रही हैं।

ज्ञात हो कि हाल ही में केंद्रीय मंत्रिमंडल का विस्तार हुआ है , जिसमें महाराष्ट्र के पूर्व मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस को मुख्य दावेदार माना जा रहा था। लेकिन फडणवीस केंद्रीय मंत्रिमंडल का हिस्सा नहीं बने। इसका मतलब साफ है कि महाराष्ट्र में राजनीतिक समीकरण कभी बन रहे हैं कभी बिगड़ रहे हैं. शिवसेना ने साफ कहा है कि वह अब भी वहीं पर खड़े होकर इंतजार कर रही है जहां से बीजेपी ने उसका साथ छोड़ा था. मतलब राज्य में जब भी बीजेपी-शिवसेना सरकार बनेगी तो वही 50-50 का फॉर्मूला होगा।

मतलब साफ़ है कि देवेंद्र फडणवीस शिवसेना के साथ गठबंधन में मुख्यमंत्री नहीं बन सकते. अब बात अगर एनसीपी की करे तो उसके सहयोग से देवेंद्र फडणवीस मुख्यमंत्री बन सकते हैं. शायद इसलिए वह केंद्रीय मंत्रिमंडल में शामिल नहीं हुए हैं. पहले शरद पवार ने दिल्ली में दो बैठकें की। एक पीयूष गोयल और दूसरी राजनाथ सिंह से मुलाकात हुई. अब आज पीएम मोदी से मुलाकात हुई. मतलब कुछ खिचड़ी जरूर पक रही है। बीजेपी एनसीपी के साथ महाराष्ट्र में सरकार बना सकती है और देवेंद्र फडणवीस दोबारा मुख्यमंत्री बन सकते हैं।
यदि ऐसा हुआ तो शरद पवार की राष्ट्रवादी कांग्रेस से लोगो का भरोसा उठेगा..व राज्य में कांग्रेस मजबूती के साथ खड़ी हो सकती है।व आगे आनेवाला चुनाव सेना व भाजपा साथ मिलकर लड़ सकते है।चुनाव के समय राष्ट्रवादी अकेली पड़ेगी

बातम्या आणि जाहिरातकरीता संपर्क साधावा - 7038636121

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here